Christopher Marlowe: An Introduction



Christopher Marlowe is one of the greatest playwrights of Elizabethan England. He was the most shining star among the University Wits. He is appreciated in the entire world for the establishment of powerful dramatic blank verse. In spite of a very short career of play writing, his achievements are diverse and splendid. Swinburne calls him ‘the first great English poet, the father of English tragedy and the creator of blank verse’.
Christopher Marlowe was baptized in a church at Canterbury, England, on February 26, 1564. He was the son of John Marlowe who was a shoemaker of Canterbury. He is known as Kit Marlowe too. His early years were spent in Canterbury. He received his school education at King’s School Canterbury. After that with the help of a patron he went up to Cambridge in 1581 and obtained his degree in 1583. Arthur Compton Rickett says, “Of his life after 1583, little is known”.
Christopher Marlowe was a versatile genius. He acquired vast knowledge which is displayed in his writing. When his first play entitled Tamburlaine was produced in 1587, he got popularity at once. This play was appreciated in entire England due to its impetuous force, its splendid command of blank verse and its sensitiveness to beauty.
Marlowe did not live long. This versatile dramatist was killed in 1593. During the short span of his life, Marlowe appeared as the best representative of the Renaissance. His most famous play is Dr. Faustus. His other plays are – Tamburlaine, The Jew of Malta, Edward II, The Tragedy of Dido and The Massacre of Paris.
Marlow’s contribution is appreciable. He reoriented English drama by imparting to it a new mould, technique, conception and versification. His own reckless and restless life finds fantastic expression in his plays. Marlowe’s plays deal with heroic themes. He raised the subject matter of drama to a higher level. For the first time Marlowe imparted individuality and dignity to the tragic hero. He gave drama passion and poetry. He taught the art of designing tragedies on a grand scale. He made blank verse a suitable medium for dramatic expressions. Marlowe was first to divide the drama into Acts and Scenes. It was Marlowe who prepared a solid ground of drama for the coming playwrights.

क्रिस्टोफर मार्लो: एक परिचय
क्रिस्टोफर मार्लो एलिजाबेथन इंग्लैंड के महानतम नाटककारों में से एक हैं। वह University Wits में सबसे चमकते सितारे थे। Powerful dramatic blank verse की स्थापना के लिए पूरे विश्व में उनकी सराहना की जाती है। नाटक लेखन के बहुत छोटे करियर के बावजूद, उनकी उपलब्धियां विविध और शानदार हैं। स्वाइनबर्न उन्हें पहला महान अंग्रेजी कवि, अंग्रेजी tragedy का जनक और blank verse का निर्माता कहते हैं।
क्रिस्टोफर मार्लो ने 26 फरवरी, 1564 को इंग्लैंड के कैंटरबरी में Parish church of St. George the Martyr में बपतिस्मा लिया था। वह कैंटरबरी के shoemaker जॉन मार्लो के पुत्र थे। उन्हें किट मार्लो के नाम से भी जाना जाता है। उनके शुरुआती साल कैंटरबरी में बीते। उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा किंग्स स्कूल कैंटरबरी में प्राप्त की। उसके बाद एक संरक्षक की मदद से वे 1581 में कैम्ब्रिज गए और 1583 में अपनी डिग्री प्राप्त की। आर्थर कॉम्पटन रिकेट कहते हैं, “1583 के बाद उनके जीवन के बारे में बहुत कम जानकारी है”।
क्रिस्टोफर मार्लो एक बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे। उन्होंने उच्च ज्ञान प्राप्त किया जो उनके लेखन में प्रदर्शित होता है। जब 1587 में Tamburlaine नामक उनका पहला नाटक प्रकाश में आया तो उन्हें तुरंत लोकप्रियता मिल गई। इस नाटक को इसकी गजब के प्रभाव, blank verse पर शानदार नियंत्रण और सुंदरता के प्रति इसकी संवेदनशीलता के कारण पूरे इंग्लैंड में सराहा गया।
मार्लो लंबे समय तक जीवित नहीं रहे। इस बहुमुखी नाटककार की 1593 में हत्या कर दी गई थी। अपने जीवन की छोटी सी अवधि के दौरान मार्लो पुनर्जागरण के सर्वश्रेष्ठ प्रतिनिधि के रूप में दिखाई दिए। उनका सबसे प्रसिद्ध नाटक Dr. Faustus है। उनके अन्य नाटक हैं - Tamburlaine, The Jew of Malta, Edward II, The Tragedy of Dido and The Massacre of Paris.
अंग्रेजी नाटक के मामले में मार्लो का योगदान सराहनीय है। उन्होंने अंग्रेजी नाटक को एक नया साँचा, तकनीक, अवधारणा और छंद प्रदान करके उसे नया रूप दिया। उनका अपना बेतरतीब और बेचैन जीवन उनके नाटकों में शानदार अभिव्यक्ति पाता है। मार्लो के नाटक वीरतापूर्ण विषयों से संबंधित हैं। उन्होंने नाटक के विषय को उच्च स्तर पर उठाया। मार्लो ने पहली बार tragedy के नायक को व्यक्तित्व और गरिमा प्रदान की। उन्होंने नाटक को passion and Poetry प्रदान दी। उन्होंने tragedies को बड़े पैमाने पर डिजाइन करने की कला सिखाई। उन्होंने blank verse को नाटकीय भावों के लिए उपयुक्त माध्यम बनाया। नाटक को acts और scenes में विभाजित करने वाले पहले नाटककार मार्लो ही थे। मार्लो ने आने वाले नाटककारों के लिए नाटक का एक ठोस आधार तैयार किया।

Comments

Popular posts from this blog

The Axe by R.K Narayan: A Summary

The Cherry Tree by Ruskin Bond: A Summary

Questions for CCE Dec. 2022: MA English Sem I; Paper I (Poetry); Govt. P.G. College Satna