Such A Long Journey: A Review in Hindi



Such A Long Journey निस्संदेह एक दिलचस्प उपन्यास है। यह रोहिंटन मिस्त्री द्वारा लिखा गया है, जिन्हें भारतीय डायस्पोरा के प्रतिष्ठित सदस्यों में से एक के रूप में सराहा जाता है। यह एक बहुत ही आकर्षक उपन्यास है। यह शानदार कृति भारत और इसकी संस्कृति से संबंधित है। यह हमारी मातृभूमि भारत के सामाजिक और राजनीतिक वातावरण से निकटता से जुड़ा हुआ है। यह एक भारतीय शहर बॉम्बे के जीवन को खूबसूरती से चित्रित करता है।
जैसा कि हम जानते हैं कि वर्ष 1971 समकालीन भारतीय इतिहास का एक संवेदनशील बिंदु है। यह घरेलू उथल-पुथल का समय है। यह पक्षपात और आक्रामकता की राजनीति का समय है। इस काल की राजनीति में साम्प्रदायिकता में भी वृद्धि देखी गई है। Such A Long Journey भारत के उसी 1971 की प्रभावी तस्वीर पेश करता है।
Such A Long Journey एक दयालु पारसी बैंक क्लर्क गुस्ताद नोबल की कहानी है। यह उपन्यास उसके परिवार और उसके दोस्तों, उसकी आशा और उसकी निराशा और उसकी सफलता और उसकी विफलता की कहानी कहता है। इस शानदार उपन्यास की पूरी कहानी गुस्ताद के चरित्र के इर्द-गिर्द घूमती है। इस उपन्यास का कथानक बहुत प्रभावशाली है। यह इस प्रकार है:
यह 1971 का बंबई शहर है। नायक गुस्ताद नोबल अपने परिवार के सदस्यों के साथ बंबई में खोदादाद भवन में रहता है। वह एक बैंक क्लर्क है। उसकी पत्नी दिलनवाज एक कुशल हाउस वाइफ है। वह अपने पति और बच्चों की देखभाल करती है। गुस्ताद नोबल और दिलनवाज के तीन बच्चे हैं। सोहराब इस कपल का सबसे बड़ा बेटा है। डेरियस दूसरा बेटा है। रोशन उनकी बेटी है। वह इस परिवार की सबसे छोटी सदस्य है। वह नौ साल की है। संक्षेप में, इस परिवार के मुखिया गुस्ताद को मध्यमवर्गीय परिवार की कुछ सामान्य समस्याओं का लगातार सामना करना पड़ता है।
उपन्यास की शुरुआत भोर के आकर्षक वर्णन से होती है। हम सुबह की सभी जानी-पहचानी आवाजों और महक का आनंद ले सकते हैं।
Such A Long Journey का नायक गुस्ताद नोबल पूरे उपन्यास में बहुत कुछ झेलता है। उसे कई परेशानियों और चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। उसे कई झटके लगते हैं।
गुस्ताद की प्यारी बेटी रोशन नौ साल की है। वह गुस्ताद के लिए खुशी का स्रोत थी। वह किसी रहस्यमयी बीमारी से ग्रसित है। वह ज्यादातर समय बीमार ही रहती है। उसकी बीमारी के कारण उसके माता-पिता चिंता से ग्रस्त हैं। इसके बावजूद, उसके पिता गुस्ताद उसका जन्मदिन मनाने का फैसला करते हैं। उनके दोस्त दिनशॉजी उनका साथ देते हैं। उत्सव को भव्य बनाने के लिए गुस्ताद अच्छी व्यवस्था करते हैं। इस पार्टी में चिकन, बासमती चावल और XXX रम परोसा जाता है। सुखद बातचीत और दिनशॉजी के चुटकुलों के बाद भारत की राजनीति पर गंभीर चर्चा शुरू होती है। इसके बाद जब पार्टी के सदस्य स्वादिष्ट खाना लेने लगते हैं तो लाइट चली जाती है। इस समय गुस्ताद और उनके बड़े बेटे सोहराब के बीच IIT में प्रवेश लेने के मुद्दे पर बहस शुरू हो जाती है।
गुस्ताद और सोहराब के बीच यह संघर्ष उपन्यास के नायक को मिलने वाला पहला बड़ा झटका है। सोहराब एक बहुत ही बुद्धिमान युवा लड़का है। सौभाग्य से उसे आईआईटी में प्रवेश लेने का अवसर मिल जाता है। लेकिन सोहराब आईआईटी में दाखिला लेने से इंकार कर देता है। इस इनकार से उसके पिताजी परेशान हो जाते हैं। उन्हें बहुत गुस्सा आता है। इस समय सोहराब एक विद्रोही के रूप में दिखाई देता है। वह किसी भी कीमत पर आईआईटी में प्रवेश लेने को तैयार नहीं है। गुस्से में गुस्ताद घोषणा करते हैं कि सोहराब अब उसके लिए इस दुनिया में नहीं है। इस घोषणा पर सोहराब अपना घर छोड़ देता है। सोहराब एक बैग पैक करता है और दोस्तों के साथ रहने चला जाता है। यहाँ गुस्ताद एक विशिष्ट भारतीय पिता हैं जो निराश महसूस करते हैं। उन्हें लगता है कि पूरी दुनिया उसके खिलाफ हो गई है। रोशन की ये रहस्यमयी बीमारी और गुस्ताद और सोहराब के बीच की तकरार दिलनवाज को अंधविश्वासी बना देते हैं। दबाव में वह एक चुड़ैल जैसे पुराने पड़ोसी के संपर्क में आती है। वह अपनी पारिवारिक समस्याओं को हल करने के बारे में उससे सलाह लेती है। कुमारी कुटपिटिया उसे काला जादू करने के लिए प्रेरित करती है। भारतीय परिवारों में ऐसी घटनाएं बहुत आम हैं।
नायक के जीवन में एक नया विवाद तब सामने आता है जब गुस्ताद के दूसरे बेटे डेरियस, जैस्मीन के साथ दोस्ती विकसित कर लेता है। जैस्मिन मिस्टर रबादी की बेटी हैं। यह दोस्ती गुस्ताद के लिए एक नई समस्या खड़ी कर देती है। जैस्मिन के साथ डेरियस की यह दोस्ती मिस्टर रबादी को डेरियस और उनके परिवार पर आरोप लगाने का मौका देती है। दोस्ती के इस रिश्ते की वजह से रबादी और गुस्ताद के बीच तकरार हो जाती है। यह स्थिति गुस्ताद के जीवन में तनाव के अलावा कुछ नहीं देती है।
गुस्ताद को दूसरा बड़ा झटका तब लगता है जब उन्हें अपने पुराने मित्र मेजर जिमी बिलिमोरिया का एक पत्र और एक पार्सल मिलता है। गुस्ताद से भेजे गए पैसे को एक गुप्त बैंक खाते में जमा करने का अनुरोध किया जाता है। यह 10 लाख रुपए की बड़ी रकम है। जमात का उद्देश्य बांग्लादेश की स्वतंत्रता के लिए पाकिस्तान में चल रहे आंदोलन का समर्थन करना है। इसमें कोई संदेह नहीं है कि यह गुस्ताद के जीवन और नौकरी के लिए बहुत जोखिम भरा है। जिमी के साथ उसकी गहरी दोस्ती उसे कुछ झिझक के बाद प्रस्ताव स्वीकार करने के लिए मजबूर कर देती है। किसी तरह गुस्ताद इस जोखिम भरे काम को अपने एक और करीबी दोस्त दिनशॉजी की मदद से पूरा करता है। अपने जीवन के इस चरण में वह अजीब घटनाओं का अनुभव करता है। अंतत: इस घटना के कारण उसका जीवन बिखर जाता है। उसे बहुत जटिल राजनीतिक स्थिति का सामना करना पड़ता है। कुछ समय बाद गुस्ताद को एक अखबार में बिलिमोरिया की गिरफ्तारी की खबर मिलती है। उसे पता चलता है कि बिलिमोरिया को दिल्ली की एक जेल में रखा गया है। इसी बीच उसे उसका एक और पत्र मिलता है। वह उसे देखना चाहता है और वह उसे सब कुछ समझाना चाहता है। गुस्ताद उसकी इच्छा पूरी करता है। वह उसे देखने दिल्ली जाता है। दोनों के बीच मुलाकात होती है। बिलिमोरिया गुस्ताद को एक राजनीतिक साजिश में शामिल करने के लिए उससे माफी मांगता है। बाद में बिलिमोरिया की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो जाती है। यह घटना उपन्यास के नायक के जीवन में आपदा के अग्रदूत के रूप में प्रकट होती है।
उपन्यास का कथानक हमें बताता है कि दिनशॉजी, एक महान चुटकुलाबाज, गुस्ताद का सबसे अच्छा दोस्त है। दोनों एक ही बैंक में काम करते हैं। उनमें गजब की आत्मीयता है। एक सच्चे दोस्त के रूप में दिनशॉजी गुस्ताद की मदद के लिए हमेशा तैयार रहते हैं। आखिरकार, एक बार दिनशॉजी का गिर जाता है । वह घायल हो जाता है। गुस्ताद उसके संकट में उसकी मदद करता है। वह उसे अस्पताल ले जाता है। दुर्भाग्य से, दिनशॉजी ठीक नहीं हो पाता। उनका स्वास्थ्य धीरे-धीरे गिरता जाता है। इस बीच, गुस्ताद नियमित रूप से दिनशॉजी से मिलने जाता है। एक बार जब वह एक कैथोलिक धर्मस्थल से अपने घर लौट रहा होता है, तो उसे पता चलता है कि दिनशॉजी की मृत्यु हो गई है। यह उसके लिए एक दुखद समाचार है। वह अस्पताल का दौरा करता है। वह नम आंखों से अपने सगे मित्र के शव के पास अपना आसन ग्रहण करता है। वह भारी मन से उनके अंतिम संस्कार में शामिल होता है। उसके दोस्त की मौत उनके लिए बहुत बड़ी क्षति है।
और अंत में, सड़क को चौड़ा करने के लिए नगर निगम को उस जमीन की जरूरत महसूस होती है जहां गुस्ताद का अपार्टमेंट स्थित है। इस सिलसिले में नोटिस जारी किया जाता है। खोडदाद भवन के आसपास की दीवार गिराने की सूचना दी जाती है। इमारत को बचाने के लिए, गुस्ताद एक कलाकार को दीवार पर देवी-देवताओं के भित्ति चित्र बनाने के लिए बुलाते है। उनका दृढ़ विश्वास है कि भित्ति चित्रों के कारण सभी धर्मों के मानने वाले इसे बचाने का प्रयास करेंगे। अंत में जब नगर निगम के कर्मचारी खोदादद इमारत के चारों ओर की दीवार को तोड़ना शुरू करते हैं, तो दंगा भड़क जाता है। लेकिन अंत में दीवार हटा दी जाती है। सोहराब वापस लौट जाता है। गुस्ताद और सोहराब का पुनर्मिलन होता है।
इस उपन्यास में मिस्त्री ने पारसी जीवन, इतिहास, संस्कृति और चरित्र की विभिन्न जटिल विशेषताओं का गहराई से अन्वेषण किया है। यहाँ नायक एक सामान्य भारतीय के रूप में प्रकट होता है। भारत में यह पाया जाता है कि जब भी किसी व्यक्ति को बहुत कष्ट होता है तो वह समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए पवित्र स्थानों पर जाता है। एक आम भारतीय की तरह गुस्ताद भी शांति की तलाश में कई धार्मिक स्थलों का दौरा करता है।
इस समीक्षा में, यह उल्लेख किया जा सकता है कि यह उपन्यास बंबई के स्थलों, ध्वनियों, गंधों, रंगों, वातावरणों, संस्थानों, समुदायों और राजनीति को उल्लेखनीय रूप से प्रस्तुत करता है। प्रसिद्ध क्रॉफर्ड और चोर बाजार का वर्णन प्रशंसनीय है। मिस्त्री पाठक को बंबई की व्यस्त दुनिया में प्रवेश करने का अवसर देते हैं। प्रसिद्ध बॉम्बे मानसून उपन्यास में शानदार अभिव्यक्ति पाता है। पाठक भारतीय ट्रेन यात्रा के वर्णन का आनंद ले सकते हैं। इस उपन्यास में भारतीय रेल यात्रा की तमाम बेरुखी और असुविधाओं का वर्णन किया गया है।
इंदिरा गांधी की सरकार और पाकिस्तान के खिलाफ भारत के युद्ध इस उपन्यास को राजनीतिक पृष्ठभूमि प्रदान करते हैं। इस उपन्यास में भारत की 1970 के दशक की शुरुआत की राजनीतिक घटनाओं और संघर्षों को खूबसूरती से पेश किया गया है। बातचीत के दौरान इस उपन्यास के कुछ प्रमुख पात्र इंदिरा गांधी और शिवसेना की राजनीतिक गतिविधियों की कड़ी आलोचना करते हैं। उन दिनों की हिंसा, भ्रष्टाचार और भाई-भतीजावाद की निंदा की जाती है। भारतीय राजनीति, सरकार और उसके मामलों का चित्रण विडंबना और व्यंग्य से भरा हुआ है।
यह पुस्तक प्रशंसनीय है। इस उपन्यास के करुणा और हास्य प्रशंसनीय है। मैं इस उपन्यास को उन पाठकों को सुझाता हूँ जिनकी भारतीय इतिहास, संस्कृति और राजनीति में गहरी रुचि है। भारत के मध्य वर्ग के लोगों की चुनौती, संघर्ष और हताशा का सजीव प्रस्तुतिकरण ही इस उपन्यास की असली खूबी है।

Comments

Popular posts from this blog

English Language & Indian Culture (BA I Yr.- FC: English)- Objective Type Question-Answer of all Five Lessons

Syllabus of UG II Year (BA/BSc/BCom) - FC II ( English) - Session 2022-23 onwards

Set-5: 08 Important Questions for UG (BA/B.Com/B.Sc) I Year FC II- English